Thirst by Er Bhargav Joshi in Hindi Poems PDF

तृष्णा

by Er Bhargav Joshi in Hindi Poems

मेरे हर वजूद को उसने बेरहमी से तोड़ा है,ताउम्र जिसको मैंने बड़े ही प्यार से जोड़ा है।******* ****** ******* ******** *******इश्क हो रहा है उनसे क्या किया जाए ???रोकें अपने आप को या होने दिया जाए ???******* ****** ******* ...Read More