Pachhtawa by Manoj kumar shukla in Hindi Short Stories PDF

पछतावा - (लघु कहानी)

by Manoj kumar shukla in Hindi Short Stories

पछतावा (लघु कथा)मनोज कुमार शुक्ल " मनोज " किचन के हर बर्तनों की अपनी एक प्रकृति होती है और उनका कठोर व नाजुक स्वभाव होता है। जैसे लोहे की कड़ाहीे, तवा, स्टील की गंजियाँ, थाली, ...Read More