Ekant prem by Amita Joshi in Hindi Love Stories PDF

एकांत प्रेम

by Amita Joshi in Hindi Love Stories

"कोई बात नहीं, विमला ।एक अचार की बरनी ही तो तोड़ी है गुड़िया ने ", गुड़िया को झट से गोद में उठाकर कमल ने कहा ।"कल मैं और आम मंगवा दूंगा और उनको कटवा भी दूंगा।तुम परेशान मत हो ...Read More