डॉ सतीश राज पुष्करणा जी की लघुकथाओं पर मेरा अभ्यास - 1

by Kalpana Bhatt in Hindi Short Stories

डॉ. सतीश राज पुष्करणाड्राइंग-रूमउमेश बाबू के ड्राइंग-रूम में प्रवेश करते हुए दीनानाथ ने कहा, “उमेश बाबू! ड्राइंग-रूम है तो बस आपका ! इतना सुन्दर, सुसज्जित तथा रख-रखाव वाला | एक-एक खिलौना ऐसा-कि मानो अभी बोल उठेगा |”भर्राई-सी धीमी, बुझी-सी ...Read More