Khushi by Karan Somani in Hindi Poems PDF

खुशी

by Karan Somani in Hindi Poems

जीवन की भागमभाग होड़ में खुशी का कोई ठिकाना ना रहा इंसान जीवन के संपूर्ण खुशी के लिए उन मुसाफिरों की दौड़ में लग गया जहां इस संसार की दौड़ ना कभी खत्म होती है और ना कभी रुकती ...Read More