Kisi ne Nahi Suna - 1 by Pradeep Shrivastava in Hindi Social Stories PDF

किसी ने नहीं सुना - 1

by Pradeep Shrivastava Matrubharti Verified in Hindi Social Stories

किसी ने नहीं सुना -प्रदीप श्रीवास्तव भाग 1 रक्षा-बंधन का वह दिन मेरे जीवन का सबसे बड़ा अभिशप्त दिन है। जो मुझे तिल-तिल कर मार रहा है। आठ साल हो गए जेल की इस कोठरी में घुट-घुटकर मरते हुए। ...Read More