प्रकृति - Dilwali kudi की कलम से।

by Dilwali Kudi in Hindi Poems

*न जाने मानव जात ने क्या करने की ठानी है।*स्वार्थ के इस खेल में हुआ मानव अभिमानी है,इस प्रकृति को मानव पहोचा रहा क्यू हानि है;न जाने मानव जात ने क्या करने की ठानी है।जो चाहिए स्वच्छ जल तो ...Read More