સારાંશ - શ્રદ્ધા અને વાસ્તવવાદ નો

by Lichi Shah in Gujarati Film Reviews

आसमां है वही और वही है ज़मीं, है मक़ाम गैर का, गैर है या हमीं अजनबी आंख सी आज है ज़िन्दगी दर्द का दूसरा नाम है ज़िन्दगी.... "पार्वती, तुम्हारे चेहरे की झुर्रियों में मेरे जीवन का सारांश है... " ...Read More