Taiyab ali pyar ka dushman by Husn Tabassum nihan in Hindi Love Stories PDF

तैय्यब अली प्यार का दुश्मन

by Husn Tabassum nihan in Hindi Love Stories

तैय्यब अली प्यार का दुश्मन दिन का मुँह धुंआं धुआं हो रहा था। सूरज अपने कंधे पर दिन का लहू-लुहान जिस्म लिए चलता हुआ। लौटे हुए पंछी हाय-तौबा मचाए पेड़ों की शाखाओं पर लुढ़क-पुढ़क रहे थे। कस्बाई वातावरण थेाड़ा ...Read More