hum kal hi to mile the by Niraj Bishwas in Hindi Poems PDF

हम कल ही तो मिले थे

by Niraj Bishwas in Hindi Poems

हम कल ही मिले हो ऐसे लगता है,फिर तुम्हे क्यों लगता है हमें अलग ,हो जाना चाहिए ,मुझे तो नही लगता,मैंने तो सोचा भी था कि हम दोनों ,साथ मिलकर दुनिया के एडवेंचर पर चलेंगेफिर आखिर मेरे प्लान का ...Read More