Manvta ke dagar pe by Shivraj Anand in Hindi Poems PDF

मानवता के डगर पे

by Shivraj Anand in Hindi Poems

प्यारे तुम मुझे भी अपना लो ।गुमराह हूं कोई राह बता दो।युं ना छोडो एकाकी अभिमन्यु सा रण पे।मुझे भी साथले चलो मानवताकी डगर पे।।वहां बडे सतवादी है।सत्य -अहिंसाकेपुजारी हैं।।वे रावण के अत्याचार को मिटा देते हैं।हो गर हाहाकार ...Read More