Journey by Yk Pandya in Gujarati Spiritual Stories PDF

Journey

by Yk Pandya in Gujarati Spiritual Stories

Journeyबस सवेरा होने ही वाला था, सूरज धीरे धीरे ऊपर उठ रहा था, खिड़की के पर्दों के पीछे से हल्की रोशनी आ रही थी,रात करवटें बदलतीं रही, मुजे समज नहीं आ रहा था की में हँसूँ या रो लूँ,में ...Read More