Benaam shayri - 4 by Er Bhargav Joshi in Hindi Poems PDF

बेनाम शायरी - 4

by Er Bhargav Joshi Matrubharti Verified in Hindi Poems

बेनाम शायरी?? ?? ?? ?? ?? ?? ??अपने वजूद को यूं बचाए रखकर समर नहीं छेड़ा जाता।"बेनाम" कुरबानी में सबसे पहले सर कटाना पड़ता है।।?? ?? ?? ?? ?? ?? ??कुछ अनजाने अनसुने ख्वाब चुने है हमने।कैसे कहे क्यों ...Read More