Tayi by Sandeep Tomar in Hindi Moral Stories PDF

ताई

by Sandeep Tomar in Hindi Moral Stories

"ताई" गॉव से आयी ताई यहाँ ठहरने को तैयार नहीं थी, कतई नहीं। पोटलीनुमा झोला काख में दबाए वह चली आ रही थी। उनका बड़ा बेटा सुबह ही अपने काम पर जा चुका था। बड़ा ...Read More