अनैतिक - ०३ किस्मत का खेल

by suraj sharma Matrubharti Verified in Hindi Novel Episodes

मैंने तुरंत फोन रखा और माँ के पास जाकर पूछा, " किधर गए थे आप इतनी सुबह? माँ ने प्लेट में ढोकला रखते हुए बोली, "क्या? क्या कहा सुबह? बेटा लगता है तूने अब तक बाहर नहीं देखा है, ...Read More