कविता संग्रह भाग 5th

by Prahlad Pk Verma in Hindi Poems

कविता 1stमैं तुझे बदनाम करने से डरता हूँ??????????तुझे इश्क में बदनाम होने का डर हैमुझे तेरे इश्क में आबाद होने का डर हैतू किसी और कि होना चाहती हैमैं तेरा होने का ख्वाब देखता हूंतेरे इश्क में तड़पना मंजूर ...Read More