Expressions - Evening and Youth by Yatendra Tomar in Hindi Short Stories PDF

अभिव्यक्ति - शाम और युवक

by Yatendra Tomar in Hindi Short Stories

यह शाम भी बीती पिछली दो शामो की तरह ही उमस भरी थी। इसी उमस भरी शाम में एक युवक अपने घर की छत के पिछले हिस्से पर पड़ी हुई एक पुरानी बैंच पर बैठा हुआ था, बैंच का ...Read More