चार्ली चैप्लिन - मेरी आत्मकथा - 62

by Suraj Prakash Matrubharti Verified in Hindi Biography

चार्ली चैप्लिन मेरी आत्मकथा अनुवाद सूरज प्रकाश 62 उस शाम हमने, सिर्फ ऊना और मैंने चुपचाप घर पर ही खाना खाया। हम कोई अखबार, कोई टेलीफोन कॉल नहीं चाहते थे। मैं किसी से बात करना या किसी को देखना ...Read More