मेरी और तुम्हारी श्रद्धांजलि...

by anshu Singh in Hindi Short Stories

चरण स्पर्श कर वह अपनी बड़ी-सी गाड़ी में बैठा और पलक झपकते ही नजरों से ओझल भी हो गया...। मेन गेट पर खड़े बुजुर्ग बस भाव शून्य हो थोड़ी देर वहां ठहरे रहे और फिर अपने कदमों को वापस ...Read More