In me and my feeling - 32 by Darshita Babubhai Shah in Hindi Poems PDF

में और मेरे अहसास - 32

by Darshita Babubhai Shah Matrubharti Verified in Hindi Poems

गर ख्यालो पे रोक लगा दोगे lतो जुबान अपनेआप मौन रहेगी ll *********************************************** याद ने तेरी जीने का हौसला दे दिया lप्यार ने तेरे जीने का हौसला दे दिया ll रफ्ता रफ्ता यू बढ़ गई हमारी हिम्मत lतेरी नज़रों ...Read More