sohabat by padma sharma in Hindi Children Stories PDF

सोहबत

by padma sharma in Hindi Children Stories

सोहबत पिताजी की आवाज नीरवता को भंग करती चली गई। वे जोर से चिल्ला रहे थे-"क्या कहा, तू आगे नहीं पढ़ेगा ? पढ़ेगा नहीं तो और क्या करेगा? तू चोरी करेगा? या हराम की खाएगा?" रात गहराने लगी थी। ...Read More