Best children stories in English, Hindi, Gujarati and Marathi Language

नाॉटीबॉय और शरारती तारा
by SAMIR GANGULY
  • 99

आकाशगंगा के नेबो ग्रह के फ्लैश बोर्ड पर उभरा-नॉटी बॉय अपने मिनी यान के साथ बाउंड्री पार जा रहा है.‘रोको उसे,यान पर स्पीड रिड्‍यूसर मिसाइल दागो’ ग्रह के सिक्योरिटी चीफ ...

मूर्ति का रहस्य - 2
by रामगोपाल तिवारी (भावुक)
  • 114

मूर्ति का रहस्य - दो                गाँव  में तीज-त्यौहार आते हैं तो लोग सारे डर और आतंक भूल कर उनमें रम जाते हैं। ऐसा ही हुआ। दशहरे का पर्व ...

नीला सितारा
by SAMIR GANGULY
  • 183

   नई बात यह नहीं थी कि पहाड़ी पर बर्फ पड़नी शुरू हो गई थी. नई बात यह भी नहीं थी कि बच्चों के लाल-पीले कोट बाहर निकल आए थे. ...

मूर्ति का रहस्य - 1
by रामगोपाल तिवारी (भावुक)
  • 285

मूर्ति का रहस्य 1   बाल उपन्यास                                                                  रामगोपाल भावुक                                सम्पर्क-                                   कमलेश्वर कोलोनी (डबरा) भवभूतिनगर                                     

बरसात का गीत
by SAMIR GANGULY
  • 177

गायक झींगुर को लंबी बरसात ने दुखी कर डाला था. कई महीनों से लगातार गाई जा रही एक ही गाने की धुन-‘जम के बरसों बरखा रानी...’ अब भला किस को ...

भोला बन्दर और नटखट चुहिया
by RACHNA ROY
  • 804

  चंपक वन में सभी जानवर खुशी से मिल -जुल कर रहते थे, कि एक दिन अचानक एक साल बाद नितु चुहिया शहर से वन में रहने आ गई।  चंपक वन ...

मुर्गाबाद में हमला
by SAMIR GANGULY
  • 168

तार की जाली से घिरा और टीन की चादरों से ढका हुआ एक बहुत बड़ा मुर्गीखाना था.  उस के आसपास मकई की खेती थी. थोड़ी दूर से एक पहाड़ी नदी ...

Dreamy Adventures - 3
by Esther Babu
  • 213

                                             (Reminder: This book in my series is ...

नया साल, नयी सुबह
by SAMIR GANGULY
  • 312

   उस दिन भी पहले पूरब दिशा लाल हुयी और तब नए साल का सूरज उग आया. हरी मखमली घास पर फैला कोहरा सूखने लगा और काफी देर जब सर्दी ...

असली चोर
by SAMIR GANGULY
  • 576

 सभी खिलौने हैरान थे. आज से पहले उनमें से किसी ने भी रिकी को गुस्से में नहीं देखा था.आज किटू खरगोश ने  साफ देखा था कि रिकी का मुंह लाल हो ...

Dreamy Adventures - 2
by Esther Babu
  • 288

Lilith Donnie was an eight-year-old tot who lived on Hemming Lane, Starinelake. She was adventurous, beautiful, and rather adorable! She had no siblings; but she did have 2 teddy ...

तिलचिट्टा जो मौत से डरता था
by SAMIR GANGULY
  • 348

  एक तिलचिट्टा था जिसे पैदा होते ही बता दिया गया था कि एक दिन उसे मार डाला जाएगा. क्योंकि तिलचिट्टों के दुश्मन हजार होते हैं और सभी तिलचिट्टे एक ...

मेंढक का पैसा
by SAMIR GANGULY
  • 411

एक मेंढक था जिसकी पीठ पर लाल धारी थी और गांठ में तांबे का एक गोल पैसा था जो खन-खन बजता था और उसकी जान का जंजाल था.जान का जंजाल इसलिए ...

बूद्धू चूहा पलटू
by SAMIR GANGULY
  • 468

- एक था नन्हा सा नटखट चूहा, नाम था उसका पलटू. पलटू की दादी का नाम था लोहाचबाई. ऐसा अजीब नाम इसलिए था क्योंकि वह लोहे के मजबूत जालों को ...

Dreamy Adventures - 1
by Esther Babu
  • 720

Hello everyone! Do you remember Lilith Donnie from my 1st book of ‘Dreamy Adventures’? Well, I have another of Lilith’s great adventures taking place in the wonderful land of Dreamoria! So, ...

फूलों की खोज
by SAMIR GANGULY
  • 375

  एक घने जंगल में बूढ़ा चौकीदार अपनी पत्नी और नन्ही बेटी सोना के साथ रहा करता था. चौकीदार शिकारियों और लकड़हारों से वन के पशु-पक्षियों और पेड़-पौधों की रक्षा ...

ऊंचे लोग, नीचे लोग
by SAMIR GANGULY
  • 453

 पार्क किनारे एक इमली का पेड़ था. विशाल पेड़ के तने में कोटर बनाकर बिरजूगिलहरी का परिवार रहता था. और पेड़ की जड़ में मिट्‍टी का बिल बनाकर मूषक चूहें का परिवार रहता था.दोनों ...

उसकी भूमिका
by SAMIR GANGULY
  • 411

 3.उसे उम्मीद न ती कि ऐसा होगा. ऐन मौके पर जाने कहां से संतू टपक पड़ा औरऐलान कर बैठा कि अपना पार्ट मैं ही करूंगा.बस हो गई चंदर की छुट्टी. ज़िन्दगी में पहली बार स्कूल के ड्रामे में पार्ट करने कामौका मिला था. जब वह मेकअप करके ड्रामा शुरू होने की प्रतीक्षा कर 

फुलराणी
by Dhanshri Kaje
  • 1.9k

"चिनु... ए चिनु"चिनु अंगणात खेळत असते. अचानक तिला कुणाचा तरी आवाज येतो आणि ति इकडे तिकडे बघते पण तिला कुणीच दिसत नाही. ति परत आपल्या खेळात मग्न होते. काही ...

नमो तुला रे
by Kirti Jaulkar
  • 783

रक्षाबंधन चा दिवस असतो. संध्याकाळचे सहा वाजलेले असतात. आर्या ने सर्व बच्चापार्टी साठी चॉकलेट?? आणलेले असतात. ती चॉकलेट द्यायला बच्चापार्टी च्या रूम मध्ये जाते तर तिच्या लहान काकाच्या जुळ्या ...

मास्टर जी का चश्मा
by SAMIR GANGULY
  • 489

1.उस रात खूब जमकर बारिश हुई थी. सुबह होते ही यह खबर सारे मोहल्ले में फैलगयी कि मास्टर अयोध्या प्रसाद गोसाई अब नहीं रहे. जब गोकुल ने यह सुना तोउसे लगा कि कानों ने गलत सुना है. हालांकि गोसाई मास्टर पिछले तीन वर्षों सेदमे के मरीज थे,  उम्र  भी दस का पहाड़ा सा

उनका ऐरावत
by SAMIR GANGULY
  • 405

सारा गांव ही परेशान था. थानेदार जी भी हार गए थे. लेकिन बूढ़े- बूढ़ियों में धैर्यअब भी बाकी था, तभी तो वह जीभ को दांतों के तले दबा कर कहते -ना भई ना, इंद्र देवता को नाराज करना ठीक नहीं.असल में बात यह थी कि बरसों में गांव में गेरूए वस्त्र धारी हट्टे-कट्टे बीस

नरक सागर
by SAMIR GANGULY
  • 465

   भभूत ललाट ब्रहमभट्‍ट.जो बाप ऐसा खतरनाक नाम अपने बेटे का रख दे उस बाप से बेटे का जन्म भर का बैर तो रहेगा ही. शुक्र था कि दादी ने शुरू से ...

खबर यह है कि
by SAMIR GANGULY
  • 717

 ... डॉक्टर ने पिताजी के पेट से इंजेक्शन की सुईं बाहर खींचकर वहां रूई का फाया रखते हुए, पिछले दिनों की तरह विक्रम-बेताल की तर्ज में मां से पूछा, ‘‘ ...

हम पंछी एक डाल के
by RACHNA ROY
  • (15)
  • 2.4k

                   तन्मय, रमा,  राही और राहुल चारों बचपन के दोस्त हैं। तन्मय और रमा अनाथ बच्चों के आश्रम में रहते हैं। पर ...

सीमा पार के कैदी - 11 - अंत
by राजनारायण बोहरे
  • 396

सीमा पार के कैदी -11 अंत                                 बाल उपन्यास                                राजनारायण बोहरे                              दतिया (म0प्र0)       11         अजय ने ऊंची आवाज में नारा ...

सीमा पार के कैदी - 10
by राजनारायण बोहरे
  • 276

सीमा पार के कैदी-10                                 बाल उपन्यास                                राजनारायण बोहरे                             दतिया (म0प्र0)   10         रात गहरा रही थी।       अजय और अभय चुपचाप   पटेल ...

आदी - पादी - दादी
by SAMIR GANGULY
  • 831

   यह दुनिया की सबसे अनोखी पिकनिक थी. जो जल्दी ही किसी वर्ल्ड रिकॉर्ड बुक में जगह बनाने वाली थी-मगर किसी दूसरी वजह से.स्कूल के लिए यह एक प्रोजेक्ट था. ...

सीमा पार के कैदी - 9
by राजनारायण बोहरे
  • 402

सीमा पार के कैदी 9                                 बाल उपन्यास                                राजनारायण बोहरे                                दतिया (म0प्र0   9   सुबह जब अजय और अभय दोनों उठे तो उन्होंने पाया ...

फाइल बोली सजाए मौत
by SAMIR GANGULY
  • 546

सूट-बूटधारी वह व्यक्ति ब्रीफकेस लेकर तेजी से बाहर निकला, उसकी हड़बड़ाहटसे स्पष्ट जान पड़ता था कि ब्रीफकेस में कोई बेहद कीमती माल है, जिसे लेकरवह तुरंत सुरक्षित स्थान पर पहुंचना चाहता है.सड़क पार करके वह अपनी नीली  कार तक जा पहुंचा. भीतर बैठ कर भीब्रीफकेस को व