Best children stories in English, Hindi, Gujarati and Marathi Language

शुभि
by Asha Saraswat
  • 201

       एक चिड़िया आती है,चिव-चिव गीत सुनाती है,    दो दिल्ली की बिल्ली है,देखो जाती दिल्ली है,   तीन चूहे राजा है देखो बजाते बाजा है,चार घर में कार ...

राजकुमारी अलबेली .. भाग २
by vidya,s world
  • 1k

राजकुमार समतल..सर्व विद्यांमध्ये निपुण,कला प्रेमी,न्यायप्रिय,राजबिंडा..सर्व राजकुमारी त्याच्या सोबत लग्न करण्यासाठी आतुर असत..पणं राजकुमाराला कोणातच रस नव्हता ..कारण राजकुमार स्वप्न..राजकुमाराला रोज स्वप्नात एक राजकुमारी दिसत असे..सुंदर.नाजुकशी..आपण विवाह

Ancient unknown Heroes - King Dahir
by Dr Dinesh Mishra
  • 174

King DahirSindh was one of the most prosperous states of United India. It was ruled by a Brahmin King Dahir. Neghbour state, Arab was very jealous to the prosperity ...

બાળપણ કોરોના ને જૂની યાદો
by VAGHELA HARPALSINH
  • 462

સમય સાથે જ્યારે માનવીના જીવનમાં આજે ખુબજ કહીંએ તો આકરી પરિક્ષા થઇ રહી છે. ક્યારે આપણે વિચાર્યુ પણ હતુ કે આપણે આ કોરાનારૂપી મહામારીમાં આપણે એવા તે કેવા જકળાઇ ...

संमझदार
by Sudha Adesh
  • 312

समझदारजैसे ही कोरोना वायरस की रोकधाम के लिये प्रधानमंत्री की ओर से लॉक डाउन की घोषणा हुई दिव्यांका ने घर को लॉकअप बनाने की ठान ली । जिससे वायरस ...

स्नो व्हाइट
by Neerja Pandey
  • 342

जब मैं लगभग ग्यारह साल की रही हूंगी मैं अपनी बड़ी बहन के साथ उनकी घनिष्ट सहेली पूनम के घर गई । मैं उनके यहां बहुत जल्दी ऊब जाती ...

રાજકુમાર
by DIPAK CHITNIS
  • 668

 રાજકુમારદીવાને અજવાળે લાભશંકરે, આંખ ઠેરવીને, સોયમાં દોરો પરોવવાનો પ્રયત્ન કર્યો. દોરીને થૂંકથી ભીની કરીને છેડે વળ ચઢાવ્યો, ઘણા પ્રયત્નો કર્યા પણ સોયનું નાકું દેખાય તો ને! એટલામાં પોળના દીવા આગળ રમતા એક કિશોરની એ તરફ ...

अप्पू का हेलमेट
by manjari
  • 198

"कितनी देर से हेलमेट ढूँढ रहा हूँ, कहीं मिल नहीं रहाI" कमरे के अंदर से एक आदमी की आवाज़ सुनाई पड़ी अमरुद के पेड़ पर बैठा हीरु तोता फुर्र ...

बचा लो धरती
by Sudha Adesh
  • 261

            बचा लो धरती        सुनयना किचन में पानी लेने आई तो उसने देखा कि उसकी माँ दूध के पैकेट काटकर दूध उबालने ...

कीर्तिमान - बाल कहानी
by Asha Saraswat
  • 417

               पारस नर्सरी में पढ़ने जाता तो उसका छोटा भाई प्रतीक  उसके साथ जाने की ज़िद करता ।प्रतिदिन मॉं उसे प्यार से समझातीं ...

मोबाइल में गाँव - 17 - चलते-चलते दिल्ली भी घूम लें
by Sudha Adesh
  • 201

चलते-चलते दिल्ली भी घूम लें  -17                  ममा पैकिंग कर रही थीं पर उसका पैकिंग करने का बिल्कुल भी मन नहीं था । ...

राजकुमारी अलबेली..भाग १
by vidya,s world
  • 1.9k

एक शेतकरी असतो ..त्याला एक खूप सुंदर मुलगी असते.तिचं नाव त्याने ठेवलेले  अलबेली.. अलबेली खूपच सुंदर फुलासारखी कोमल,निळ्या डोळ्यांची,गुलाबी ओठांची,नाजुकशी..एकदम परी सारखी..सर्वांना वाटायची ती खरंच परी आहे की काय ...

मोबाइल में गाँव - 16 - विदा के पल
by Sudha Adesh
  • 180

              विदा के पल-16                एक हफ्ते का समय कैसे बीत गया सुनयना को पता ही नहीं ...

आपका पत्र मिला
by SAMIR GANGULY
  • 216

रश्मि को आज तक न तो किसी ने पत्र ही लिखा था और न ही उसने कभी किसी के पत्र की उम्मीद ही की थी. शायद इसीलिए कुछ आश्चर्य, कुछ ...

मोबाइल में गाँव - 15 - लॉन में पिकनिक
by Sudha Adesh
  • 183

लॉन में पिकनिक-15       उस दिन दादाजी ने शाम को सबको घर के बाहर लॉन में एकत्रित होने को कहा ।       ‘ क्या बात है पिताजी, ...

हौसला - बाल कहानी
by Asha Saraswat
  • 765

           चार वर्ष का माधव अपनी मॉ से अनेक सवाल करता रहता था ।माधव शहर में रहता था और उसे गाँव के बारे में जानकारी ...

જંગલ -આશ્રય
by શિતલ માલાણી
  • 1.5k

સવારનો સૂરજ જંગલમાં ધીમે ધીમે ઊગતો હતો ને બધા પ્રાણીઓ અને પંખીઓ ઊંઘને ઊડાડી આળસ મરડી રહ્યાં હતા..    નદીકિનારે બગલા અને બતક વોક કરી રહ્યાં હતા. મગર અને માછલી ...

एक लड़की मनीषा मोटी
by SAMIR GANGULY
  • 246

उसका नाम मनीषा मोटी या मोटी मनीषा बिल्कुल न पड़ता अगर कक्षा में मनीषा नाम की दो लड़कियां न होती.वैसे यह बात भी सच थी कि वह कक्षा में सबसे मोटी ...

मोबाइल में गाँव - 14 - नामकरण की दावत
by Sudha Adesh
  • 234

नामकरण की दावत-14       दोपहर को वे सब मास्टरजी के घर गए । उनकी गाड़ी के रुकते ही मास्टरजी बाहर गेट तक आ गए   तथा उन्हें अंदर लेकर ...

मोबाइल में गाँव - 13 - चिड़ियों से दोस्ती
by Sudha Adesh
  • 312

चिड़ियाओं से दोस्ती  -13                दूसरे दिन सुनयना सोकर उठी । चिड़ियों का रोज जैसा शोर न पाकर उसने खिड़की से बाहर देखा ...

मोबाइल में गाँव - 12 - डैम की सैर
by Sudha Adesh
  • 330

डैम की सैर -12           ‘ बहू अब खाना लगा दो । सब थक गये होंगे ।’      ‘ हाँ भाभी, खाना लगा दो । जब ...

मेहनत की कमाई
by Asha Saraswat
  • 654

          नवीन के पिता साधारण सरल स्वभाव के व्यक्ति थे।उनका कोई बड़ा व्यापार नहीं था।वह प्रतिदिन एक ठेला किराये पर लेते ।मंडी जाकर ताज़ा सब्ज़ियाँ ...

मोबाइल में गाँव - 11 - पिकनिक में आया मजा
by Sudha Adesh
  • 246

पिकनिक में  आया मजा-11       दूसरे दिन सब पिकनिक के लिये तैयार हो गये । चलते हुये दादाजी ने कहा, ‘ बच्चों अपने एक-एक जोड़ी कपड़े बैग में ...

ख़ूब नहाए पर झाग न झाए
by SAMIR GANGULY
  • 255

गोविंदाभाई झिंगोरानी रातोरात महान कैसे हो गए और नौसेना पुलिस में जेलर सेसाबुनों के आविष्कार कैसे हो गए, यह एक लंबी रहस्यभरी कहानी है.पर हां, इतना सच है कि जगतप्रिय साबुन फैक्टरी के बनाए तीनों साबुन पूर्णत: मौलिकएवं  स्वदेशी हैं. और इनमें से खटमलों की गंध 

बाबूजी सिखाते सिखाते मर गए मगर....
by r k lal
  • (14)
  • 693

बाबूजी सिखाते- सिखाते मर गये मगर......आर 0 के0 लालबाबूजी हमेशा कहा करते थे, “हिम्मते मरदां मददे खुदा”। यह एक फारसी कहावत है जिसका मतलब होता है “फॉर्चून फेवर्स ब्रेब्स” ...

ઉડતો પહાડ - 4
by Denish Jani
  • 632

ઉડતો પહાડ ભાગ 4 ચંદ્ર જાળ મોમો નો આત્મવિશ્વાસ અને ઉત્સાહ જોઈ,  હોયો અને સિહા આખરે યોજના માં જોડાવવા તૈયાર થઇ જાય છે. હોયોની ચિંતાનું નું કારણ બીજું કઈ ...

यह कैसी सीख
by SAMIR GANGULY
  • 270

मणि ने सब्जी का थैला एक ओर रखा. मां को पैसे लौटाने के लिए जेब में हाथ डाला. फिर एक ही सांस में सारी जेबें टटोल डाली.‘‘ क्या हुआ?’’ ...

मोबाइल में गाँव - 10 - हर साँप जहरीला नहीं होता
by Sudha Adesh
  • 222

हर साँप जहरीला नहीं होता-10       सुनयना ने बाहर आकर साँप के बारे में बताया तो ममा तो घबड़ा ही गईं वहीं चाची ननकू को डाँटने लगीं । ...

शेर के साथ स्कूल तक
by SAMIR GANGULY
  • 441

 किसी भी काम को सही ढंग से नहीं करता था चिंटू.  बहुत ही शरारती था.ऐसा एक भी दिन न होता, जब चिंटू के कारण उसकी मां को दो चार ...

मोबाइल में गाँव - 9 - ट्रैक्टर की सैर
by Sudha Adesh
  • 264

ट्रैक्टर की सैर-9                नाश्ता करने के बाद चाचा ने उससे तैयार होने के लिये कहा । वह तैयार होकर आई तो रोहन ...