you are my Poem by Deepak Pradhan in Hindi Poems PDF

मैरी कविता तुम हो

by Deepak Pradhan in Hindi Poems

मैने जब जब लिखा तुम्हे ही देख देख लिखा मुझे लिखने का कोई सोख नही था तुम्हे जब भी देखा मेरी अंतर आत्मा से अनेक शब्दों की जैसे उत्पत्ति हो रही हो ओर मेने उन शब्दों की एक ...Read More