Me and My Feelings - 38 by Darshita Babubhai Shah in Hindi Poems PDF

में और मेरे अहसास - 38

by Darshita Babubhai Shah Matrubharti Verified in Hindi Poems

बात रूह की करो lजान बेज़ान सी है ll ************************************** कोई मगरूर है, तो कोई यहा मशहुर है lकोई खामोश हैं, तो कोई वहा मजबूर है ll ************************************** जिस चमन मे महफ़ूज़ समजा था ख़ुद को llवहीं ...Read More