Naak Kat Jaayegi by Mayank Saxena in Hindi Philosophy PDF

नाक कट जाएगी

by Mayank Saxena in Hindi Philosophy

हम भारतीयों की नाक हर क्षण कट कर पुनरुदभव हो जाती है ठीक वैसे ही जैसे किसी छिपकली की पूंछ। आखिर कटे भी क्यों न, विश्व में हमारा मान ही इतना है। लेकिन गर्द तो हमें अपने समाज का ...Read More