Kartavya - 2 by Asha Saraswat in Hindi Social Stories PDF

कर्तव्य - 2

by Asha Saraswat Matrubharti Verified in Hindi Social Stories

कर्तव्य (2) मैं जैसे ही अंदर गई भाभीजी ने मुझे गले लगा लिया और मेरी पहनी हुई फ्राक की खूब तारीफ़ की । मुझे भी अच्छा लगा और मैं उनसे बातें करने लगी ।भाभीजी— “गुड़िया तुम्हारी ड्रेस बहुत ...Read More