Talaq by R.KapOOr in Hindi Short Stories PDF

तलाक़

by R.KapOOr in Hindi Short Stories

आज तड़के ही उठ बैठी थी राधा, उथ बैठी क्या पूरी रात सोई ही नहीं थी, मन में एक अजीब किस्म की बेचैनी थी और आंखें बार बार भर आती थीं। उठ कर उसने अपने पति की तरफ़ देखा, ...Read More