Bepanaah - 23 by Seema Saxena in Hindi Fiction Stories PDF

बेपनाह - 23

by Seema Saxena Matrubharti Verified in Hindi Fiction Stories

23 “क्या सोच रही हो शुभी? तुम्हें यहाँ अच्छा नहीं लग रहा है ?”ऋषभ ने उसके कंधे पर हाथ रखते हुए कहा। “यह सोच रही हूँ कितना अच्छा है यहाँ सब कुछ, मानों कोई देवीय शक्ति मुझ में प्रवेश ...Read More