Vaishya ka bhai - 19 by Saroj Verma in Hindi Classic Stories PDF

वेश्या का भाई - भाग(१९)

by Saroj Verma Matrubharti Verified in Hindi Classic Stories

सबको दवाखाने से लौटते-लौटते दोपहर हो चुकी थी,सबके मन में हलचल भी मची थी कि माई अंग्रेजी में गोरे डाक्टर से क्या गिटर-पिटर कर रही थी ?क्योकिं चारों में से कोई भी पढ़ा लिखा नहीं था,किसी को ना तो ...Read More


-->