Mere shabd meri pahchan - 15 by Shruti Sharma in Hindi Poems PDF

मेरे शब्द मेरी पहचान - 15

by Shruti Sharma Matrubharti Verified in Hindi Poems

आज की कविताएं :-)1.) अँधेरा ।2.) तपना ज़रूरी है ।देखा जाए तो रौशनी आँखो को धूमिल करती है और अंधेरा आँखो में पडी धूल को हटाने में मददगार है । अंधेरा आपके अस्तित्व को बनाए रखता है परंतु ...Read More


-->