Cursed Rangmahal--Part (4) by Saroj Verma in Hindi Horror Stories PDF

श्रापित रंगमहल--भाग(४)

by Saroj Verma Matrubharti Verified in Hindi Horror Stories

धूमकेतु के ऐसे आचरण से शाकंभरी विक्षिप्त हो चुकी थी,उसे स्वयं से घृणा हो रही थी,उसे अब अपने भ्राता पुष्पराज की प्रतीक्षा थी कि वो शीघ्र ही राजमहल आकर उसे बंदीगृह से मुक्त कराएगा,जब पुष्पराज को यह सूचना मिली ...Read More