SHANKAR ADAVIT METAPHYSICS by JUGAL KISHORE SHARMA in Hindi Philosophy PDF

शंकर का अद्वैत वेदांत

by JUGAL KISHORE SHARMA in Hindi Philosophy

अद्वैत वेदांत ---- ** शंकर ने इस ब्रह्मांड के मूल में केवल ब्रह्म की सत्ता स्वीकार की है। उनकी दृष्टि से ब्रह्म ही अंतिम सत्य है। उनका यह ब्रह्म अनादि, अनंत और निराकार है। यही ब्रह्म इस ब्रह्मांड ...Read More