लक्ष्य वनाम् जीवन और ज़मीर(दो कहानी)

by Pradeep Kumar sah in Hindi Short Stories

उसने देखा कि अन्दर से मिलकर जो प्रतिभागी बाहर आता, वह प्रसन्नचित होता. तथापि वे सब पूरी गोपनीयता बरत रहे थे. इससे साहब से मिलने हेतु धीरज का बेसब्री भी बढ़ता गया. सबके अंत में धीरज की बारी आई,उसे ...Read More