Detective stories Books in Hindi language read and download PDF for free

    शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर - 24
    by Kumar Rahman

    फकीर ट्रेन स्टेशन पर कुछ देर में पहुंचने वाली थी। इंस्पेक्टर सोहराब ने सार्जेंट सलीम को जगा दिया और उसकी जेब में दो हजार रुपये रखते हुए कहा, “तुम ...

    शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर - 23
    by Kumar Rahman

    स्टूडियो उसी रात। काले रंग की दो बड़ी कारें डे स्ट्रीट रोड पर सन्नाटे को चीरती हुई तेजी से आगे बढ़ रहीं थीं। टायरों की चरचराहट रात के सन्नाटे ...

    शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर - 22
    by Kumar Rahman

    शूटिंग कैंसिल   सुबह छह बजे कैप्टन किशन ने रिसेप्शन पर हार्ड काफी का आर्डर दिया और फिर फ्रेश होने के लिए वाशरूम में चला गया। जब वह निकला ...

    शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर - 21
    by Kumar Rahman

    एक और हमला श्रेया को कांधे पर लाद रखे बदमाश की कमर पर इस जोर की लात पड़ी थी कि वह जमीन पर आ रहा। इसके साथ ही दूसरी ...

    शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर - 20
    by Kumar Rahman

    बुरा नाम  इंस्पेक्टर सोहराब के सामने शैलेष जी अलंकार खड़ा पलकें झपका रहा था। यह ‘शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर’ फिल्म का राइटर और डायरेक्टर था। उसे वहां पाकर इंस्पेक्टर ...

    शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर - 19
    by Kumar Rahman

    लिफ्ट यह आवाज कैप्टन किशन की थी। कार की पिछली सीट से कैप्टन किशन ने उतरते हुए पूछा, “यहां क्या कर रहे हो इतनी रात को, और यह जंगलियों ...

    शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर - 18
    by Kumar Rahman

    सफर इंस्पेक्टर सोहराब की टैक्सी शोलागढ़ की तरफ भागी चली जा रही थी। ड्राइवर काफी होशियार था। वह एक बराबर रफ्तार से टैक्सी चला रहा था। इंस्पेक्टर सोहराब पिछली ...

    शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर - 17
    by Kumar Rahman

    हंगामा उसे घूरता देख कर विक्रम खान की खोपड़ी उलट गई। उसने एक भरपूर पंच उसके मुंह पर मारा। पंच इतना नपा-तुला था कि वह आदमी किसी कटे हुए ...

    शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर - 16
    by Kumar Rahman

    शोलागढ़ इंस्पेक्टर सोहराब ने मेकअप रूम में ही कॉफी पी और फिर एक किताब पढ़ने लगा। यह किताब स्पेन के प्रसिद्ध चित्रकार पाब्लो पिकासो की प्रेमिका रही सिलवेट डेविड ...

    शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर - 15
    by Kumar Rahman

    फर्जी कत्ल सोहराब के सवाल पर विक्रम खान सोच में डूब गया। जैसे विक्रम किसी और दुनिया में गुम हो गया हो। सोहराब उसके चेहरे के उतार-चढ़ाव को बहुत ...

    शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर - 14
    by Kumar Rahman

    आसमान से गिरे सार्जेंट सलीम अपनी समझदारी की वजह से गुफा से बाहर आ गया था। उसने पहले उस बड़े से छेद से श्रेया को बाहर निकाला था और ...

    मिशन : X – 4 (Hindi) - अंतिम भाग
    by Kamal Patadiya

    End in India आर्यन भारत आकर सीधे जोन के ऑफिस पर धस जाता है। वहा उसको जोन और सलीम दोनों मिलते हैं। आर्यन को देखकर सलीम भागने की कोशिश ...

    मिशन : X – 3 (Hindi)
    by Kamal Patadiya

    Destroy Enemies तीनो लोग कहां पर कैफे कॉफी डे जैसे होटल में पहुंचकर कॉफी ऑर्डर देते है, इतनी देर में माइकल सिविल ड्रेस में वहां पर आता है। जमील ...

    शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर - 13
    by Kumar Rahman

    रास्ता सार्जेंट सलीम इस जोर से यूरेका-यूरेका चिल्लाया था कि उसकी आवाज पूरी गुफा में कई बार गूंज-गूंज कर सुनाई देती रही। यूरेका शब्द का मतलब होता है, ‘मैंने ...

    मिशन : X – 2 (Hindi)
    by Kamal Patadiya

    Start in Paris विक्रम ने आर्यन को टैक्सी वाले अल्बर्टो की सब जानकारी दी होती है। आर्यन बहुत ही सावधानी से उसके फ्लैट पर पहुंच जाता है। वह फ्लैट ...

    मिशन : X – 1 (Hindi)
    by Kamal Patadiya

    डिटेक्टिव - आर्यन खन्ना आर्यन खन्ना एक एडवर्टाइज कंपनी में as a ऑफिसर के तौर पर नौकरी करता है लेकिन वह हकीकत में इंडियन इंटेलिजेंस सर्विस (IIS)  का जासूस ...

    शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर - 12
    by Kumar Rahman

    कागज का टुकड़ा इंस्पेक्टर सोहराब की बेचैनी बढ़ती जा रही थी। सार्जेंट मुजतबा सलीम को गायब हुए दो दिन गुजर चुके थे। उसका कहीं कुछ पता नहीं चल रहा ...

    शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर - 11
    by Kumar Rahman

    साजिश हाल में चारों तरफ अंधेरा था। हर तरफ से सिर्फ चीख पुकार की आवाज सुनाई दे रही थी। लोग भागते वक्त कुर्सियों से टकरा रहे थे। एक दूसरे ...

    शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर - 10
    by Kumar Rahman

    झील के किनारे सार्जेंट सलीम फटी-फटी आंखों से शेयाली को देखे जा रहा था। “तुम जिंदा हो!” सार्जेंट सलीम के मुंह से बेसाख्ता निकला। “मैं क्यों मरने लगी भला!” ...

    शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर - 9
    by Kumar Rahman

    लापता सार्जेंट सलीम को गायब हुए 24 घंटे से ज्यादा हो गए थे। पहले दिन जब वह शाम तक नहीं लौटा तो सोहराब ने कई बार उसका फोन मिलाया ...

    शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर - 8
    by Kumar Rahman

    न्यूड पेंटिंग शाम के पांच बजे थे। धूप की तपिश थोड़ा कम हो गई थी। 7, डार्क स्ट्रीट स्थित कोठी गुलमोहर विला के बड़े से दरनुमा गेट से डायमंड ...

    शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर - 7
    by Kumar Rahman

    कैफे श्रेया, सार्जेंट सलीम की सोच से कहीं ज्यादा एडवांस निकली थी। सुबह नाश्ते के बाद इंस्पेक्टर सोहराब ने उसे श्रेया का नंबर दिया था। सार्जेंट सलीम ने वहीं ...

    शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर - 6
    by Kumar Rahman

    बिल्ली का क़त्ल इंस्पेक्टर सोहराब सिसली रोड पर पहाड़ों के बीच बनी कुदरती झील की तरफ जाने के लिए निकला था। वह पिछले कुछ दिनों से वहां जा रहा था। ...

    शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर - 5
    by Kumar Rahman

    तकरार सार्जेंट सलीम खामोशी से जाकर टेबल के सामने रखी कुर्सी पर बैठ गया। उसके ठीक बगल की टेबल पर विक्रम के खान बैठा हुआ था। उसे वहां बैठा ...

    शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर - 4
    by Kumar Rahman

    पेंटर लूसी सार्जेंट सलीम की पीठ से अपना जिस्म प्यार से रगड़ रही थी। लूसी को देख कर सलीम की आंखें फटी की फटी रह गईं। लूसी उसकी पर्सियन ...

    शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर - 3
    by Kumar Rahman

    हीरोइन इंस्पेक्टर सोहराब को घूरते देखकर सलीम दूसरी तरफ देखने लगा। सोहराब, कैप्टन किशन के सामने दूसरे सोफे पर बैठ गया। सार्जेंट सलीम भी सोहराब की बगल में आकर ...

    शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर - 2
    by Kumar Rahman

    मारपीट मोबाइल के वाल पेपर पर एक लड़की की फोटो थी। यह वही लड़की थी, जिसे सार्जेंट सलीम ने एक दिन पहले होटल सिनेरियो में देखा था। सार्जेंट सलीम ...

    शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर - 1
    by Kumar Rahman

    जासूसी उपन्यास शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर @ कुमार रहमान कॉपी राइट एक्ट के तहत जासूसी उपन्यास ‘शोलागढ़ @ 34 किलोमीटर’ के सभी सार्वाधिकार लेखक के पास सुरक्षित हैं। किसी ...

    श्यामपुर में सीरियल किलर - 1
    by RAUNAK TIWARI

        बिहार , भारत के उत्तरी भाग का एक राज्य , जो आज से दशकों पूर्व अपराधों, जंगलराज के लिए कुख्यात था, लेकिन समय के साथ सरकार बदली, ...

    सत्यजीत सेन (एक सत्यान्वेषक) - 3
    by Aastha Rawat

    सुबह का समय था सत्यजीत और अरूप जी दोनों नहा कर तैयार थे ।सत्यजीत -चलो अरूपअरूप -हां चलो मैं सोच रहा हूं आज कि मैं पूरी दिनचर्या ही लिख ...