Detective stories Books in Hindi language read and download PDF for free

    मौत का खेल - भाग- 28
    by Kumar Rahman

    स्विमिंग सिंड्रेला और सलीम आपस में पीठ जोड़े हुए बैठे थे। सिंड्रेला हाथों में फूल लिए उन की पंखुड़ियों को एक-एक कर के तोड़ रही थी। मानो कोई विश ...

    मौत का खेल - भाग- 27
    by Kumar Rahman

    प्रिंस ऑफ बंबेबो टेबल क्लॉक का अलार्म कई बार बजकर शांत हो चुका था। सार्जेंट सलीम अभी तक सोया हुआ था। सोहराब कोठी पर नहीं था, वरना अब तक ...

    मौत का खेल - भाग- 26
    by Kumar Rahman

    गंजू धमकी का तुरंत असर हुआ और घबराहट में कार के एक्सीलेटर पर पांव का दबाव बढ़ गया और नतीजे में कार की स्पीड अचानक तेज हो गई। “आराम ...

    मौत का खेल - भाग-25
    by Kumar Rahman

    मेंबरशिप अबीर फंटूश रोड पर कार में बैठे-बैठे उकता गया था। उसने मेजर विश्वजीत को एक भद्दी सी गाली दी और कार को स्टार्ट कर दिया। वह यहां तक ...

    मौत का खेल - भाग-24
    by Kumar Rahman

    अहम सुराग सोहराब और सलीम पर पीछे की कार से किए गए दोनों ही फायर बेकार साबित हुए थे। दोनों गाड़ियों के बीच की दूरी पचास मीटर से ज्यादा ...

    मौत का खेल - भाग-23
    by Kumar Rahman

    सिंड्रेला इंस्पेक्टर कुमार सोहराब ने जब बूढ़े को मोबाइल पर कपड़े की तस्वीर दिखाई तो उसने उस पर एक नजर डालते हुए कहा, “हमारे लिए यह बता पाना बहुत ...

    मौत का खेल - भाग-22
    by Kumar Rahman

    फन टू सन क्लब यह एक विदेशी ओपेन कार थी। इसे एक मिस्री लड़की ड्राइव कर रही थी। उसका नाम शीना था। शक्लो सूरत में बहुत खूबसूरत थी। लंबे ...

    मौत का खेल - भाग-21
    by Kumar Rahman

    ड्रोन सदर अस्पताल दस मंजिला था और लाशघर पांचवी मंजिल पर था।  लिफ्ट तेजी से ऊपर चली जा रही थी। न वह छठे फ्लोर पर रुकी थी और न ...

    मौत का खेल - भाग-20
    by Kumar Rahman

    वापसी राजेश शरबतिया की वाइफ नाइट गाउन में उन दोनों की तरफ चली आ रही थी। उसे देखते ही रायना ने पूछा, “आप अभी तक यहीं रह रही हैं। ...

    अनजान कातिल - 5
    by V Dhruva

    भाग 5 दोनो अमन सहगल की ऑफिस पहुंचते है। वहां पर रिसेप्शन पर बैठा लड़का पुलिस को देखकर थोड़ा घबरा जाता है। तावड़े उसे पूछता है - तुम्हारे बड़े ...

    मौत का खेल - भाग-19
    by Kumar Rahman

    लाश की वापसी शरबतिया हाउस में लाश वैसे ही रखी हुई थी और रायना शव को लेने के लिए तैयार नहीं थी। कोतवाली इंचार्ज मनीष ने रायना को समझाते ...

    मौत का खेल - भाग-18
    by Kumar Rahman

    क्रिमनल साइकोलॉजी घोस्ट बहुत तेजी से भागी चली जा रही थी। शहर काफी पीछे छूट गया था। सड़क पर इस वक्त ज्यादा गाड़ियां नहीं थीं। वन वे होने की ...

    मौत का खेल - भाग-17
    by Kumar Rahman

    रूमाल होटल सिनेरियो के सुइट में अबीर सोफे पर बैठा हुआ था और रायना उस पर बुरी तरह से बिफरी हुई थी। वह उसके सामने खड़ी कह रही थी, ...

    अनोखा जुर्म - भाग-9
    by Kumar Rahman

    सलाम नमस्ते, ‘मौत का खेल’ उपन्यास पहले लिखना शुरू किया था. इस बीच मन में ‘अनोखा जुर्म’ का प्लाट भी तैयार हो गया. इसलिए उसे भी लिखना शुरू कर दिया. ...

    मौत का खेल - भाग-16
    by Kumar Rahman

    लाश का डीएनए इंस्पेक्टर सोहराब लाश को बड़े ध्यान से देख रहा था। लाश के चेहरे की हालत देख कर उसने यह अंदाजा तो लगा ही लिया था कि ...

    अनजान कातिल - 4
    by V Dhruva

    भाग 4 ------आगे हमने देखा कि इं। मिश्रा होटल के दो बैरो से अमन सहगल के बारे में पूछताछ कर रहा था। अमन की कोई बात उन्हें मालूम हो ...

    मौत का खेल - भाग-15
    by Kumar Rahman

    पुतला  मेजर विश्वजीत की पार्टी में खलल पड़ गया था। उसका मूड बुरी तरह से ऑफ था। राजेश शरबतिया उसे शांत करने की कोशिश कर रहा था। उसने मेजर ...

    अनोखा जुर्म - भाग-8
    by Kumar Rahman

    फायरिंग  गेट से अंदर पहुंचते ही सार्जेंट सलीम ठिठक कर रुक गया। अंदर एक लाश रखी हुई थी। वहां तमाम लोग बैठे हुए थे। कुछ महिलाएं जारो कतार रो ...

    मौत का खेल - भाग-14
    by Kumar Rahman

    दलाल रायना ने मेजर विश्वजीत को निराश नहीं किया। वह पलट कर शरबतिया के पास गई और वाइन की बोतल को गले से सटा कर शराब गिराने लगी। शराब ...

    अनजान कातिल - 3
    by V Dhruva

    आगे आपने पढा कि अमन सहगल की कार का एक्सीडेंट हो जाता है। एक्सीडेंट में ही उसकी मौत हो जाती है और इं. मिश्रा तहकीकात कर के अमन की ...

    मौत का खेल - भाग-13
    by Kumar Rahman

    गुमशुदगी की रिपोर्ट सिगार सुलगाने के बाद सोहराब ने दो-तीन कश लिए। उस के बाद उस ने किसी का फोन मिला दिया। दूसरी तरफ से फोन रिसीव होने पर ...

    अनोखा जुर्म - भाग-7
    by Kumar Rahman

    पीछा सार्जेंट सलीम ने कुछ देर इधर-उधर की बातें करने के बाद हाशना से पूछा, “यह वाकिया कब हुआ था?” “लगभग तीन साल पहले।” हाशना ने बताया। इसके बाद ...

    मौत का खेल - भाग -12
    by Kumar Rahman

    तफ्तीश इंस्पेक्टर कुमार सोहराब और सार्जेंट सलीम के बीच अभी बातें हो ही रही थीं कि तभी सोहराब के फोन की घंटी बजी। दूसरी तरफ से राजेश शरबतिया की ...

    मौत का खेल - भाग-11
    by Kumar Rahman

    कौन था वह सलीम ने आज जम कर मेहनत की थी। उसे यकीन था कि उस की जानकारी सोहराब को खुश कर देगी। जब वह कोठी पर पहुंचा तो ...

    अनोखा जुर्म - भाग- 6
    by Kumar Rahman

    कॉकरोच शाम को सलीम ऑफिस से निकल कर सीधे गीतिका के घर के सामने वाले चायखाने पर ही आ कर रुका था। गीतिका के दरवाजे पर ताला नहीं लटक ...

    मौत का खेल - भाग-10
    by Kumar Rahman

    इश्क की दास्तान अबीर कुछ देर पहले एक लड़की के साथ था और अब यह दूसरी लड़की। अबीर आखिर किसे धोखा दे रहा है? यह सलीम की समझ में ...

    अनजान कातिल - 2
    by V Dhruva

    अपने भाग 1 में पढ़ा तावड़े इंस्पेक्टर मिश्रा की तरफ देखकर कहता है- सर! खूनी ने गोली अंधेरे मे चलाई। इसका मतलब वो उस अधेड़  शख्स के नज़दीक ही ...

    मौत का खेल - भाग-9
    by Kumar Rahman

    कब्र खोदी गई डॉ. वीरानी की कब्र सभी लोगों के सामने थी। गड्ढा मिट्टी से भरा हुआ था। रायना और शरबतिया ने लोगों को बताया था कि उन्होंने कुछ ...

    आग और गीत - 20 - अंतिम भाग
    by Ibne Safi

    (20) साइकी अब उस कमरे में अकेली खड़ी थी । उसी कमरे में एक छोटी सी मशीन लगी हुई थी और लकड़ी के एक तख्ते पर ट्रांसमीटर रखा हुआ ...

    अनोखा जुर्म - भाग-5
    by Kumar Rahman

    चपरासी ऊपर वाले ने सलीम की एक न सुनी और उसे स्काई सैंड सॉफ्टवेयर कंपनी में चपरासी बन कर जाना ही पड़ा। गीतिका उस से एक बार कोठी पर ...