Hindi Philosophy Books and stories free PDF

    किस्मत - 1
    by Akshay jain
    • (0)
    • 51

    किस्मत नाम कि वस्तु से आप सभी परिचित ही होंगे। आज के समय में अनेक लोग अपनी किस्मत पर ही टिके हुए हैं।अनेक लोग अपनी किस्मत को आजमाते रहते ...

    शॉपिंग की बीमारी
    by r k lal Verified icon
    • (5)
    • 60

    शॉपिंग की बीमारीआर 0 के 0 लाल"चलो तैयार हो जाओ।  तुम्हारा सामान लेकर आते हैं। ध्यान रहे हार बार की तरह फालतू सामान लेने की जरूरत नहीं है। लिस्ट ...

    सामाजिक मीडिया का नैतिक संस्कारों पर प्रभाव
    by Akshay jain
    • (0)
    • 43

    "Social media अर्थात् सामाजिक मीडिया।"    आज सभी जानते है और सभी मानते भी है कि सोशल मीडिया पारस्परिक जुड़ाव का अच्छा साधन है। आपस में जुड़ने का अच्छा उपाय ...

    नींद
    by Akshay jain
    • (2)
    • 88

    आज का विषय है नींद । आज नींद के बारे में मै कुछ अपने अनुभव प्रस्तुत करूंगा।                          ...

    गॉड ऑन व्हाट्सएप
    by Ajay Amitabh Suman Verified icon
    • (2)
    • 72

    विज्ञान क्या है ? भगवान क्या है और ईश्वर का प्रमाण क्या है ? जहाँ तक विज्ञान की बात है तो ये पूर्णतया साक्ष्य पर आधारित अर्जित किया हुआ ...

    स्वप्न
    by Akshay jain
    • (2)
    • 82

    आज हम स्वप्न के विषय पर अपने विचार रखेंगे । मेरा निवेदन है कि इसे पढ़ने के पहले आप सभी "नींद" वाला लेख जरूर पढ़ें। इससे आप मेरी बात ...

    एकांत का उजाला
    by Pritpal Kaur Verified icon
    • (1)
    • 109

    एकांत का उजाला-प्रितपाल कौर. जनसत्ता 2 अक्टूबर २०१६. पीछे मुड कर क्यूँ देखती हो? क्या है वहां? सिर्फ दर्द, परेशानियाँ...... जानती हूँ... चेहरे पर छाई रहने वाली हंसी ...

    प्रकृति मैम - गाकर देखो
    by Prabodh Kumar Govil
    • (2)
    • 54

    1.गाकर देेेे...मेरी नई - नई नौकरी वाला ये शहर भी सुन्दर था और वक़्त भी।ज्वाइन करने के लिए थोड़े से सामान के साथ यहां आया तो मैं पहले दो ...

    प्रकृति मैम - बदन राग
    by Prabodh Kumar Govil
    • (3)
    • 70

    बदन रागमैं जो परीक्षा जयपुर में देकर आया था, उसका परिणाम आ गया। लिखित परीक्षा में मेरा चयन हो गया था। अब दिल्ली में साक्षात्कार देना था।छोटे से गांव ...

    प्रकृति मैम - आलाप
    by Prabodh Kumar Govil
    • (3)
    • 125

    आलापइसी गांव में एक वैद्य जी थे। छोटी जगह होने से उनसे जल्दी ही परिचय मित्रता में बदल गया। कई बार शाम के समय पोस्टमास्टर साहब के आवास के ...

    मीत न मिला रे मन का
    by Dr. Vandana Gupta
    • (6)
    • 151

              "सुन जल्दी से आजा, कोई खास मेहमान आए हैं.." तृषा का फोन आया और मैं दस मिनट में गाड़ी में थी. मुझे तैयार होने ...

    नजरिया
    by Udit Ankoliya
    • (4)
    • 123

           नजरिया ,  ये नजरिया क्या होता हैं ?

    अली , बजरंगबली और महँगी बिजली
    by Ajay Amitabh Suman Verified icon
    • (3)
    • 81

    अभी अभी चुनाव ख़तम हुए है. नई सरकार आ चुकी है. मुझे कुछ दिनों पहले रिलीज़ हुई अमिताभ बच्चन और अभिषेक बच्चन की फिल्म बंटी और बबली याद  आ ...

    सोंचना एक अच्छी आदत - 1
    by Alok Sharma
    • (4)
    • 176

    हम हमेशा क्यों सोंचते हैं क्योंकि सोंचना एक अच्छी आदत है ।  जरूरी नही की आप क्या सोंचते रहते है हर समय बल्कि जरूरी ये है कि आप जो ...

    कठिन पथ पर कैसे बढ़ें
    by Rajesh Kumar
    • (4)
    • 98

    उड़ने लगे धूल कण जब, पैर पथ पर बढ़ चले।हो बिछे कंट पथ पर, कठिनाइयां चाहे मिले।ध्येय ज्वाला जला हृदय में, नित्य आगे बढ़ चले।सफल परिश्रम हो हमारा,नित्य पथ अवलोकन करें।साथियों,    ...

    मन का पंछी
    by Dr. Vandana Gupta
    • (5)
    • 728

       सर्दियों की गुनगुनी धूप मुझे हमेशा ही आकर्षित करती रही है। आज भी इस महानगर की बालकनी में बैठी मैं मटर छील रही हूँ, मैथी पहले ही तोड़ ...

    उज्जड्
    by Alok Sharma
    • (6)
    • 94

    वह व्यक्ति जो बिना सोंचे समझे बगैर जाने बूझे किसी कार्य को करने के लिए तैयार हो जाता है ,और मना करने पर क्रोधित हो जाता है उजड्डता की ...

    अकेलापन
    by shekhar kharadi Idariya
    • (9)
    • 201

    आप सभी ने अवश्य कही न कही इस सायकाॅलोजी डिसआॅडॅर के विषय में आर्टिकल्स पढ़ें होगे । कुछ इसी तरह डिसोएक्टिव आइडेंटिटी डिसआॅडॅर के बारे , जिसे आमतौर पर ...

    काटो नहीं, फुफकारो
    by Ajay Amitabh Suman Verified icon
    • (9)
    • 180

    काटो नहीं,फुफकारो गौतम बुद्ध अपने शिष्यों के साथ एक गांव के पास से गुजरे। गांव के बच्चों को एक खेल के मैदान में सहम कर खड़े हुए देखा। गौतम ...

    प्रकृति मैम - 2
    by Prabodh Kumar Govil
    • (5)
    • 138

                        प्रकृति मैम [ कहानी ]                              ...

    वो लडकी
    by Amit Katara
    • (14)
    • 312

    यह मेरे जीवन की वो घटना है जीस कभी भी नहीं भुले सकते तब मेरी उम्र 17 साल हो गई आप सोच रहे हो कि मैं बुढा हो गया ...

    पशुओं में मृगराज सिंह हूँ और मछलियों में घड़ियाल
    by Ajay Amitabh Suman Verified icon
    • (15)
    • 166

    पशुओं मैं कृष्ण का मृगराज सिंह और मछलियों में घड़ियाल को चुनना कई सारे सवाल पैदा करता है , कृष्ण मृगराज सिंह को हीं चुनते है, अपनी विभूति को ...

    कृष्ण योगी भी , भोगी भी
    by Ajay Amitabh Suman Verified icon
    • (21)
    • 240

    आजकल सोसल मीडिया ज्ञान के प्रसारण का बहुत सशक्त माध्यम बन गई है। परंतु इससे अति भ्रामक सूचनाएं भी प्रसारित की जा रही हैं।ईधर मैंने एक गीत भी सुना: ...

    एक साथी ओर भी था....
    by Mewada Hasmukh Verified icon
    • (20)
    • 255

    हैलो.. हैलो......आपकी आवाज़ नहीं सुनाई देती..फोन कट हो जाता है..मे  अनजान नंबर पे कॉल करता हू..हैलो.. आप.. आपका कॉल था..?नमस्ते.. मे वरुण गाव से..!!हा.. बोलो...एक  बुरी खबर  ?क्या बताएगा ...

    तुनक मिजाजी
    by Lakshmi Narayan Panna Verified icon
    • (9)
    • 786

    तुनक मिजाजी एक मानसिक व्याधि है जो कुछ लोगों में hypertension(अति-तनाव) तथा कुछ लोगों में praudiness(घमण्ड) का कारण बन जाती है । सामान्यतः यह स्थिति स्वयं के जीवन के ...

    कुछ अनुभव
    by Shreyas Apoorv Narain
    • (12)
    • 1k

    कुछ अनुभव हैं मेरे।मैं यानी मैकश के।सोचा आप सभी से साझा करूँ।बाकी आप सभी की इच्छा!