Short Stories Books in Hindi language read and download PDF for free

    चोखी की दूसरी विदाई 
    by Udita Mishra
    • 114

    चोखी की दूसरी विदाई  कभी कभी मेरी नानी अपने बचपन की कहानियां किस्से मुझे सुनाती है एक बार उन्होंने अपनी बचपन की सहेली चोखी के बारे में मुझे बताएं ...

    अरदास
    by डिम्पल गौड़
    • 66

    गंगा घाट की सीढ़ियों पर बैठी नयनतारा जीवन के विगत पलोंको आँखों में भर बहती गंगा की धारा को शून्य सी होकर निहार रही थी । सीढ़ियों पर उतरते चढ़ते ...

    भाभी काश तुम पुरुष हुई होतीं
    by shalini singh
    • (11)
    • 338

    माँ ने फ़ोन पर जब घबराई आवाज़ में बताया कि बेटा.. अपरा हम सबको छोड़ कर चली गई तो मेरे मुँह से बस इतना निकला कि माँ वो गई ...

    एक गलत कदम
    by VANDANA SINGH
    • 164

    किसी को कभी इस बात का अंदाजा नही होता उसका कौन सा कदम उसकी दुनिया बदलने वाला है और वो जिन्दगी जिसमे दो कदम और दोनो गलत रास्ते पे ...

    What is Women Empowerment
    by Madhuri Vaghasana
    • 126

    આજ સવાર ના જ્યારે 5 વાગ્યે મેં મારું WhatsApp ખોલ્યું ત્યારે સૌથી પહેલો મેસેજ જોવા મળ્યો મારા 3 વર્ષ પહેલાં ની મિત્ર નો.મેસેજ જોતા મને થયું લાવ વાંચું શુ ...

    भावुकता के नुकसान
    by Pt Satya Sharma
    • 110

    नवीन एक बहुत ही भावुक व्यक्ति था,जो सेना से पेंशन आ जाने के बाद अपने गाव से दूर शहर मे रहता था और एक छोटी सी राशन की दुकान ...

    किसी से ना कहना
    by अनुभूति अनिता पाठक
    • 264

    रिया की शादी बड़े ही अच्छे और रईस खानदान में हुई थी। इन सबसे अच्छी बात यह थी कि उसे एक बहुत ही प्यारा परिवार मिला था।सारा परिवार प्यार ...

    ख़ुशी क्या है?
    by Trishala
    • (16)
    • 452

    जब कभी मैं ख़ुशी  के बारे में सोचती हूँ तो मुझे एक मूवी का डायलॉग याद आ जाता है। “आज खुश तो बहुत होंगे तुम “ शायद इसलिए क्योकि  कोई ...

    दूसरी मां
    by Udita Mishra
    • 308

    दूसरी मां जिले के एक प्रसिद्ध आंख के डॉक्टर अपनी पत्नी के साथ सरकारी क्वार्टर में रहते थे उनका एक बेटा था जोकि एक दूसरे शहर में इंजीनियरिंग की ...

    बाबुल मोरा नैहर छुटियो जाए...
    by Dr.Ranjana Jaiswal
    • (20)
    • 1.8k

          बेटे के बोर्ड के पेपर चल रहे थे...महीनों से घर से बाहर भी नहीं निकली थी ।सोचा था..इस बार इम्तिहान खत्म होने के बाद ही पीहर ...

    बेस्ट फ्रेंड - 3
    by SURENDRA ARORA
    • 118

    बेस्ट फ्रेंड सुरेन्द्र कुमार अरोड़ा (3) 17. बेस्ट फ्रेंड " कार्तिक चलो बेटा, पहले खाना खा लो.बचा हुआ होम वर्क बाद में कर लेना. अपने पापा को भी बुला ...

    पटरी पर गाड़ी
    by Annapurna Bajpai
    • 130

    रानो आज फिर देर से आयी।कारण पूछने पर भड़क उठी । " का बहू जी , हमहूं मनई हैं , देर अबेर हुई  जात है ! घर ते देर ...

    शहीद की पत्नी
    by NISHA SHARMA ‘YATHARTH’
    • 288

    हैलो!बेटा कैसी हो? मैं ठीक हूँ माँ,आप कैसे हो? हमारा क्या है बेटा आज हैं, कल नहीं । अरे ऐंसे क्यों बोल रही हो माँ ? बेटा एक बात ...

    नई मां
    by Udita Mishra
    • (12)
    • 380

    नई मां हमारे पड़ोस में बिहार से एक नया परिवार रहने आया जिसमें एक बुजुर्ग आंटी अपने दो बेटों के साथ रहने आई उनकी बेटी की शादी कुछ ही ...

    कामयाबी
    by SURENDRA ARORA
    • 232

    कामयाबी " सर काम मुश्किल है। " " मिस सिंह ! मैं जनता हूँ कि आपको हर मुश्किल आसान करनी आती है । निश्चिन्त रहिये हम पैसे की कोई ...

    वक्त की व्याख्या
    by कल्पना मनोरमा
    • 250

    वक्त की व्याख्या "गंगू तुम गरीबी में भी अपनी ईमानदारी, तराजू पर रखता है और ये बहुत बड़ी बात है आज के समय में ।" सोसायटी में रहने वाले हेगड़े ...

    हम समय के पाबंद है
    by सिमरन जयेश्वरी
    • 142

    "माँ कितना टाइम हो गया है...?????" उसने नींद से जागते और उबासी लेते हुए पूछा। दर्शन कुलश्रेष्ठ एक मल्टीनेशनल कंपनी में एच. आर का कार्य करने वाला 24 वर्षीय ...

    अनोखी मित्रता
    by Payal Sakariya
    • 314

        आकाश अहुजा ,‌ newspaper. Read कर रहे थे ,   अचानक उनकी नजर एक खबर पर आकर रुक गई ।   वह एक business news थी। उसमें कहा गया ...

    कारन्टान
    by Monika kakodia
    • 230

    इससे पहले की आप कहें मैंने अशुद्ध लिखा है, चलिए पढ़ते हैं ये कहानी"हैल्लो..हैल्लो...कैन यु हेअर मी...आवाज़ आ रही है ना मेरी?"" नहीं सर थोड़ा ज़ोर से बोलिए..कुुुछ समझ ...

    कच्ची अमिया
    by Pratap Singh
    • 260

    कच्ची अमिया"मैडम वो अभी लौट कर आने वाले ही होंगे। आप चिंता न करें।" पेट्रोल पंप के कर्मी उस नवविवाहिता महिला को समझाने की कोशिश कर रहे थे जिसे ...

    जिंदगी की...-3-सही गलत
    by Rama Sharma Manavi
    • 404

       घर के दरवाजे की घण्टी बजी।दरवाजा खोला तो देखा कि रंजना खड़ी थी, सूजी हुई आँखे बता रही थीं कि घण्टों रो चुकी थी।चेहरे पर चिंता की लकीरें ...

    पीरपंजाल की पहाड़ी तले
    by Madhu Sosi
    • 138

    पीरपंजाल की पहाड़ी तले : ये उन दिनों की बात है जब जम्मू काशमीर में आतंकवाद  इतना भी नहीं था । ८५/८६ के समय की बात है ,  पति ...

    मैं - तुम से हम तक का सफ़र
    by अनुभूति अनिता पाठक
    • 236

    ❤❤" सिया तुम्हें ये शादी करनी ही होगी। बेटी, तुम क्यों नहीं समझती। माँ - बाप हैं हम तेरे बेटी, दुश्मन नहीं है। रवि तेरे लिये सही लड़का नहीं है ...

    अग्निपरीक्षा
    by Varsha
    • 254

    अग्निपरीक्षा  तड़ाक!!!!!!!! जोर का थप्पड़ पड़ा सूरज के गाल पें..... सूरज लडखडा कर पीछे हो गया..... उसने सोंचा भी नहीं था कमजोर सी दिखने वाली राधिका उस पर इस ...

    इम्तिहान भाग 3 - शुरुआत
    by Pranav Pujari
    • 156

         वो पहला दिन था गौरव का दिल्ली में। कंपनी की तरफ से रहने की पूरी व्यवस्था थी। उसने सोच लिया था कि सारा सामान  कमरे में रखने ...

    क्रिकेटर बिटिया
    by Udita Mishra
    • 124

    क्रिकेटर बिटिया आज दीप्ति अपने आप को डीसपी की वर्दी में देख कर बहुत खुश थी। उसका बरसों का सपना जो साकार हो गया था। उसे बचपन से ही ...

    लॉक डाउन हल्के-फुल्के पल (हास्य व्यंग्य)
    by Dr.Ranjana Jaiswal
    • 868

         भाईयों और बहनों....घबराइए मत हम " वो बड़े वाले नेता जी" थोड़ी है ,जिनके इस एक शब्द से इन दिनों पूरा देश हिल जाता है। पूछिये क्यो...पूछिये ...

    बेस्ट फ्रेंड - 2
    by SURENDRA ARORA
    • 226

    बेस्ट फ्रेंड सुरेन्द्र कुमार अरोड़ा (2) 9. सबक " क्या कर रही हो माँ ?" " कुछ नहीं." " माँ कुछ नहीं का क्या मतलब लूँ ?" " कुछ ...

    मुफ़लिसी से जंग - मेरी सहेलियाँ
    by Annapurna Bajpai
    • 210

    मुफ़लिसी से जंग - लघुकथा***************************कई दिनों बाद आज कलुआ अपने घर से निकला । ठेले को जंजीरों से मुक्त किया और उसको नहलाया धुलाया , बढ़िया सुंदर आवरण से ...

    मेरा संघर्ष
    by Sushma Gupta
    • 498

    अगर कोई कहें कि जिंदगी में क्या पाया? तो शायद पाने से ज्यादा खोया ही है  अभी तक ।आज  अपनी जिंदगी की हर एक घटना सीमा की आँखो के  ...