Social Stories Books in Gujarati, hindi, marathi and english language read and download PDF for free

    मुख़बिर - 19
    by राज बोहरे
    • (0)
    • 0

    मुख़बिर राजनारायण बोहरे (19) चिट्ठी मैंने सुनाना आरंभ किया । हम लोग दोपहर को एक पेड़ के नीचे बैठे थे कि दूर से धोती कुर्ता पहने बड़े से पग्गड़ ...

    लुटलुटी
    by Satish Sardana Kumar
    • (0)
    • 0

    राजबीर थानेदार जाति से जाट था।वह इंसानों और घटनाओं को जातीय खाँचे में फिट करके सोचने का आदी था।वह कोई सीधा थानेदार भर्ती नहीं हुआ था बल्कि कांस्टेबल से ...

    સંવેદના ના સુર (ઉત્તરાયણ સ્પેશિયલ)
    by Naresh Gajjar
    • (11)
    • 122

    સંવેદના ના સૂર....(ઉત્તરાયણ સ્પેશિયલ)"હસરતે તો થી આસમાન કો છુને કી ,મગર" "હવાઓ કે રૂખ કા હમ  એતબાર કર  બૈઠે"..                      ...

    राजनीति
    by Shikha Kaushik
    • (4)
    • 62

    शाम ढलने लगी थी .आधा नवम्बर बीत चुका था .सुहानी हवाओं में बर्फ की ठंडक घुलने लगी थी .शॉल ओढ़कर साहिल खिड़की से बाहर के नज़ारों को देखने लगा ...

    ஆவினம்குடி ஓரத்திலே - 2
    by c P Hariharan
    • (0)
    • 103

    திரும்பவும் கொஞ்சம் நாள் கழித்து அவர்கள் கிராமத்தில் வரலானார். இப்போது தானே வந்திட்டு போனார்கள். திரும்பவும் எதற்க்காக வந்திருக்கிறார்கள் என்று எல்லோரும் அதிர்ந்து போனார்கள் அப்போது தான் புரிந்தது இந்த தடவை அவர்கள் எதுவும் கேட்டு வாங்கி ...

    પાર્થ
    by Jeet Gajjar Verified icon
    • (27)
    • 260

    શહેર ની બહાર આવેલી જીઆઇડીસી માં મંદી ના કારણે ઘણી ફેક્ટરી બંધ હતી. અમુક તો દિવસ પૂરતી ચાલુ રહેતી. પણ પેલા ની જેમ ધમધમતી ન હતી. રોજ ટાઇમ સર ...

    “उल्लेखनीय भारतीय संस्कृति जो भारत को अद्भुत बनाती हे”
    by Narendra Rajput
    • (3)
    • 48

    भारतीय संस्कृति का उल्लेख सिर्फ देश में नहीं विदेशों में भी किया जाता है। संस्कृति का मान सम्मान भारत में ही होता है जिसके कारण अन्य देश भी भारतीय ...

    कौन दिलों की जाने! - 6
    by Lajpat Rai Garg Verified icon
    • (6)
    • 109

    कौन दिलों की जाने! छः 31 दिसम्बर रात को आठ बजे प्रधानमन्त्री जी का राष्ट्र के नाम सन्देश प्रसारित होना था, इसलिये आलोक ने सात बजे ही सामने वाले ...

    राहबाज - 8
    by Pritpal Kaur Verified icon
    • (3)
    • 59

    निम्मी की राह्गिरी (8) मैं प्यार हूँ मैं ठन्डे पानी से नहाती हूँ हर रोज़. पानी की धार तेज़ी के साथ मेरे सामने रखी बाल्टी को भर रही है. ...

    ठहरी हुई धूप
    by Kailash Banwasi
    • (1)
    • 75

    ठहरी हुई धूप कैलाश बनवासी हमेशा की तरह मम्मी ने ही जगाया था—ए-ए–s s s ई सीटू ! उठो ! ऊँ s s s अ.... वह नींद में कुनमुनाया. ...

    વાત્સલ્યનો વલોપાત?
    by Bhajman Nanavaty
    • (5)
    • 82

      વાત્સલ્યનો વલોપાત? ‘તને દેવુએ વાત કરી, ભાઇ ?’ માએ ડાઇનીંગ ટેબલ પર મારી સામે બેઠક લેતાં પૂછ્યું. ‘શાની વાત, મા ?’ મેં દેવાંશી સામે નજર નાખતાં વળતો પ્રશ્ન ...

    મહિસાગરના કાંઠે
    by vipul parmar
    • (2)
    • 118

           દિવાળીનું મીની વૅકેશન પછી ઉનાળુ વૅકેશન શરૂ થતાં જ મારા પગ વતનની વાટે જ ચડતા.આર્થિક રીતે પછાત અલબત્ત ઘરની જવાબદારીઓના ભારથી સહેજ હળવો થવા શહેરના ધમાલ્યા ...

    भगवान की भूल - 9 - अंतिम भाग
    by Pradeep Shrivastava Verified icon
    • (3)
    • 141

    भगवान की भूल प्रदीप श्रीवास्तव भाग-9 मैंने हर बाधा का रास्ता निकाला और सारी रस्में पूरी कीं। सिर भी मुंडवा दिया। मैं वहां हर किसी के लिए एक अजूबा ...

    વિષબીજ
    by Nidhi Thakkar
    • (8)
    • 155

    વિષબીજહું મારી કૉલેજમાં જતી હતી.કૉલેજ નું પ્રથમ વર્ષ હતું અને પહેલો દિવસ હોવાથી હું થોડી ડરેલી પણ હતી જોકે હું આમ પણ ગરોળી ,વંદો ઉંદર,બિલાડી,દેડકું,આવા નાના-મોટા પ્રાણીઓ, અને જીવજંતુઓ ...

    ग्रहण का दान
    by r k lal Verified icon
    • (4)
    • 100

    “ग्रहण का दान” आर 0 के0 लाल                रात चंद्रग्रहण था इसलिए आज सुबह- सुबह  ही मोहल्ले की गलियों में भिक्षा मांगने वालों ...

    केशव एंड शर्मा - EP 071 - परेशान पिता
    by The Real Ghost
    • (0)
    • 99

    शर्मा : कैसे हैं केशव जीकेशव : नमस्कार शर्मा जी मैं अच्छा हूँ आप अपनी सुनाइएशर्मा : मैं भी अच्छा हूँकेशव : आइये कुछ देर शतरंज खेली जायेशर्मा : ...

    કબીર : રાજનીતિ ના રણમાં - 1
    by Ved Patel
    • (6)
    • 125

    કબીર ને નાનપણથી જ ગણિત ના કોયડા , જાસૂસી વાર્તાઓ ,મગજ ની રમતો , વગેરે માં બહુ જ શોખ.કબીર પોતાના ક્લાસ નો મોનીટર.પોતાના મિત્રો ને મસ્તી કરવા દે પણ ...

    इस दश्‍त में एक शहर था - 4
    by Amitabh Mishra
    • (0)
    • 42

    इस दश्‍त में एक शहर था अमिताभ मिश्र (4) इधर गजपति बाबू ने काम के लिए हाथ पैर मारना शुरू किए तो कुछ ट्यूशन कुछ दुकानों के हिसाब किताब ...

    ઇમાનદારી
    by Deeps Gadhvi Verified icon
    • (13)
    • 356

    હુ મારા વીસે શું કહુ,તમને તો ખબર છે,તમે મને આટલો સ્નેહ આપ્યો છે જેનો મને ખુબ આનંદ છે,મારી સ્ટોરી ખુબ સીમ્પલ હોય છે કેમ કે હુ કોઇ પ્રોફેશનલ વ્હાઇટર ...

    कमरा नंबर 103
    by Sudha Om Dhingra
    • (4)
    • 102

    कमरा नंबर 103 सुधा ओम ढींगरा बार्नज़ हस्पताल के कमरा नम्बर 103 में प्रवेश करते ही, नर्सें टैरी और ऐमी पिंजरे से छूटे पक्षियों सी चहचहाने लगती हैं और ...

    मुख़बिर - 18
    by राज बोहरे
    • (0)
    • 64

    मुख़बिर राजनारायण बोहरे (18) बीहड़ पुलिस आये दिन उन दोनों से पूछने-ताछने आ धमकती । वे दोनों क्या बताते ! पुलिस हाथ मलती रह जाती । उन चारों के ...

    દહેજ
    by Jeet Gajjar Verified icon
    • (37)
    • 648

    ભાડે કરેલી ગાડી એક શહેર તરફ જઈ રહી હતી. તેમાં લોકેશ અને તેના માતા પિતા લોકેશ માટે છોકરી જોવા જઈ રહ્યા હતા. પહેલી જ નજરમાં ગમી જાય તેમ લોકેશ ...

    कौन दिलों की जाने! - 5
    by Lajpat Rai Garg Verified icon
    • (5)
    • 162

    कौन दिलों की जाने! पाँच रमेश दिल्ली से रात को देर से आया था, इसलिये नौ बजे तक सोता रहा। उठते ही उसने रानी को कहा — ‘कल तुम्हें ...

    राहबाज - 7
    by Pritpal Kaur Verified icon
    • (3)
    • 79

    मेरी राह्गिरी (7) शादी खाना-आबादी निम्मी आज फिर एक बार निम्मी मोड में आ गयी थी. निम्मी के साथ अक्सर ऐसा होता है. जब भी मैं घर से ज्यादा ...

    जादू टूटता है
    by Kailash Banwasi
    • (0)
    • 100

    जादू टूटता है कैलाश बनवासी ‘‘सर, क्या मैं अंदर आ सकता हूँ ?’’ प्रिंसिपल ने स्कूल के फंड से पैसे बैंक जाकर निकलवाने के लिए मुझे अपने कक्ष में ...

    ફરેબી - સંગ-ઍ-દિલ - 3
    by Komal Joshi Pearlcharm Verified icon
    • (5)
    • 168

    ' looking beautiful !'' nice acting '  'Khub saras acting karo cho' ' wah! Mast '  " નીના ! તું તો બહુ ફેમસ થઈ ગઈ ને ? શું વાત છે ? આટલા ...

    भगवान की भूल - 8
    by Pradeep Shrivastava Verified icon
    • (2)
    • 184

    भगवान की भूल प्रदीप श्रीवास्तव भाग-8 एक बार फिर भाद्रपद महीना पितृपक्ष ले कर आ गया। माता-पिता को श्राद्ध देने पिंडदान देने का वक्त। मैं हर साल यह सब ...

    મારો શું વાંક ? - 32 - છેલ્લો ભાગ
    by Reshma Kazi Verified icon
    • (63)
    • 712

    મારો શું વાંક ? પ્રકરણ - 32 લગભગ રાતનાં દસેક વાગે ચિઠ્ઠી હાથમાં સાથે લઈને રહેમતે જાવેદનાં રૂમનો દરવાજો ખખડાવ્યો. જાવેદે દરવાજો ખોલ્યો અને રહેમતને જોઈને બોલ્યો.... બોલ બેટા ...

    હિસાબ - (ભાગ-૨) છેલ્લો ભાગ
    by Nidhi
    • (52)
    • 546

    હિસાબ - (ભાગ-૨)- Nidhi ''Nanhi Kalam''I.C.U. માંથી ડોક્ટર બહાર આવ્યા. ત્યાંજ લલિત, જીગર, રંજનબેન, સરોજ ટોળે વળી ગયા. સુરેશભાઈ પણ ધીમે પગલે તબિયતને કોસતાં આવી રહ્યા હતાં. ડોક્ટરે લલિતના ...

    கடைசி வரை கடமை...
    by BoopathyCovai
    • (0)
    • 129

    இந்த நாவல் உங்களுக்கு ஒரு நல்ல பொழுது போக்கை அளித்திருக்கும் என்று நான் நம்புகிறேன் . முடிந்தால், உங்களுடைய கருத்துக்களை மறக்காமல் பதிவு செய்யுமாறு கேட்டுக் கொள்கிறேன் . உங்களுடைய ஆலோசனைகளை வரவேற்கிறேன் . இப்படிக்கு பூபதி கோவை, boopathycovai@gmail.com