Best Philosophy Books in Gujarati, hindi, marathi and english language read and download PDF for free

अवसान की बेला में - भाग ७
by Rajesh Maheshwari

                      56.   मानवीयता श्रेष्ठ धर्म जबलपुर विकास प्राधिकरण के पूर्व अध्यक्ष और भारत सरकार में अस्सिटेंट सालिसिटर जनरल के ...

अवसान की बेला में - भाग ६
by Rajesh Maheshwari

                          46.  अंतिम दान सेठ रामसजीवन नगर के प्रमुख व्यवसायी थे जो अपने पुत्र एवं पत्नी के ...

अवसान की बेला में - भाग ५
by Rajesh Maheshwari

            36.  उत्तराधिकारी मुंबई में एक प्रसिद्ध उद्योगपति जो कि कई कारखानों के मालिक थे, अपने उत्तराधिकारी का चयन करना चाहते थे। उनकी तीन ...

अवसान की बेला में - भाग ४
by Rajesh Maheshwari

                        २६.   चेहरे पर चेहरा रामसिंह नाम का एक व्यक्ति था, वह पेशे से डाक्टर था। वह बहुत ...

गाँवों की लोक कहानियां - 1
by निखिल ठाकुर

           1. राक्षस का भाई भाक्षस ----------------------------------------------   ये सारी लोक कहानियां हमारे गाँव के बजुर्ग हमें सुनाया करते थे ...उस समय हम बहुत छोटे होते ...

अवसान की बेला में - भाग ३
by Rajesh Maheshwari

                        १६.   सच्चा प्रायश्चित नर्मदा नदी के किनारे पर बसे रामपुर नाम के गाँव में रामदास नामक एक ...

अवसान की बेला में - भाग २
by Rajesh Maheshwari

                               6.  हार-जीत             सुमन दसवीं कक्षा में एक अंग्रेजी माध्यम की शाला में अध्ययन करती ...

જ્ઞાન પ્રકાસ આત્મ ચિંતન
by Hemant Pandya

ઓમ શાંતિ: શું ખબર કેટલા દીવસો બાકી જીંદગી ના કેમ ખુશ રહીને ના જીવીએ, બાટીએ ખુશીયા ગમઓમ શાંતિ: ઓમકાર પ્રભુ શીવ પિતાએ જન્મ આપ્યો હસતા હસતા જીવવું હસતા હસતા ...

अवसान की बेला में - भाग १
by Rajesh Maheshwari

अवसान की बेला में लेखक एवं संग्रहक:-  राजेष माहेष्वरी                                श्रद्धांजली विचारों के संकलन, संपादन ...

स्वतंत्रनिर्भरता का महत्व
by Rudra Sanjay Sharma

"स्वतंत्रनिर्भरता का महत्व"आत्मा को परमात्मा से मिलन कर, परम् यानी सर्वश्रेष्ठ आत्मा बनने के लियें स्वयं के ही तंत्र पर निर्भर होकर आत्म निर्भर स्वतंत्र बनना अनिवार्य हैं।वह आत्मा ...

मुँह को बंद रखना, मौन अब जरुरी है
by Kamal Bhansali

शीर्षक: मुँह को बंद रखना, मौन अब जरुरी है जीवन के क्षेत्र में मौन” और “खामोशी” दो शब्द ऐसे है, जिनका मतलब प्रायः एक जैसा होते हुए भी हटकर ...

मित्रता (दोस्ती) , दुश्मनी और झगड़ा
by Rajesh Sheth

मित्रता (दोस्ती)१.  दैनिक जीवन में, व्यवहार करते समय, हम बहुत से व्यक्तियों के संपर्क में आते हैं। यह संपर्क शायद हर रोज होता है या कभी कभी और यह ...

उपलब्धि
by Dr Mrs Lalit Kishori Sharma

मनोविज्ञान के अनुसार मानव का जीवन  मन द्वारा ही संचालित होता है । मन की शक्ति द्वारा ही हमारी समस्त इंद्रियां सक्रिय होती हैं इसीलिए मन को इंद्रियों का ...

COMMITMENT - Self Development Topics
by Rajesh Sheth

COMMITMENTSelf development topics based on Humanist themes of peace and non violence of the community for human developmentIntroductionEveryone knows about the commitment of Mahatma Gandhi towards non-violence and search ...

नाक कट जाएगी
by Mayank Saxena

हम भारतीयों की नाक हर क्षण कट कर पुनरुदभव हो जाती है ठीक वैसे ही जैसे किसी छिपकली की पूंछ। आखिर कटे भी क्यों न, विश्व में हमारा मान ...

Addendum to Evolution: Origins of the World
by BS Murthy

Creation vs. Evolution One might approach this postulation as an addendum to evolution for it comes in the wake of the great works of the past. It would seem ...

સમજણ બસની મુસાફરીથી
by Dhinal Ganvit

આપણું જીવન અનેક પ્રકારની મુસાફરીઓ થી ભરેલું હોય છે. જીવન માં થતી દરેક પ્રકારની મુસાફરીઓ આપણને ઘણા બધા અને દરેક સમયે એક નવા અનુભવ તરફ લઈ જતી હોય છે. ...

લાગણી ની પેલે પાર
by Janki Savaliya

           જીવનની થોડીક ક્ષણો ધુરી જ રહી ગઈ          અને જે ક્ષણો વિતાવી તેમાંથી થોડી આંસુ માં વહી ગઈ        ...

देखो...
by Pinalbaraiya

इस दुनिया को देखो गौर से देखो.. बस देखते ही रहो...ओर कुछ करने की जरूरत ही नहीं है..तुम देखोगे तो जानोगे ओर जानोगे तो मानोगे ओर मानोगे तो तुम ...

आर्ट ऑफ वर्किंग
by Chandrakant Pawar

आर्ट ऑफ वर्किंग श्रम शक्ति को बनाने की युक्ति प्रदान करता है ।जो मनुष्य को सामाजिक गरीमा का सम्मान करने के लिए होती है। स्वयं के दर्शन का प्रसाद ...

जिंदगी के पहलू - 5 - सही मानसिकता का निर्माण
by Kamal Bhansali

आज जीवन गहन संकट काल से गुजर रहा है, मानव विक्षोभ के अंतर्गत बहुत प्रकार के तनाव का सामना कर रहा है। यह तो पूरा विश्व जहाँ एक तरफ ...

પૃથ્વી
by DIPAK CHITNIS

              પૃથ્વી    આવો, આપણી વ્હાલી પૃથ્વી પર એક નજર નાખીએ. વિશાળ સૌરમંડળમાં તે એકમાત્ર ગ્રહ છે જેની પર જીવન છે. તેમાં ઉંચી ઉચી પર્વતમાળાઓ છે, અને ક્યાંક મેદાનો ...

खुदगर्ज नहीं खुद्दार जरुर बनिये
by Kamal Bhansali

आधुनिक युग जिसमें, हम अपनी जिंदगी का सफर कर रहे वो समय, कभी, हमें इस अहसास की अनुभूति कहीं न कहीं करा ही देता है कि कहीं हमारा, इस ...

સ્વકર્મ
by Jigna Kapuria

*સ્વકર્મ*પહેલાં તો સ્વકર્મ એટલે શું?સ્વકર્મ એટલે તમે  સ્વયંમ  કરેલું કર્મ, અર્થાત  *જીવ અને શિવનું  મિલન* તો પછી શિવની પ્રાપ્તિ  કેમ કરશો? એવી કઈ મૂડી છે જેનાંથી  જીવ શિવમાં એકાકાર થઈ  ...

માનવીનો દ્રષ્ટિવંત
by DIPAK CHITNIS

    માનવીનો દ્રષ્ટિવંત   માનવીની જોવાની દ્રષ્ટિ-નજર  જેવી હોય છે,  તેવું  તે જોઈ શકે છે, સાંભળી  અને સમજી શકે છે. જો માનવીના આંખો ઉપરના  ચશ્મા પર ધૂળ  જામેલી ...

जिंदगी के पहलू - 4 - खुश रहना भी कला है
by Kamal Bhansali

शीर्षक: खुश रहना भी कला है। हम अपनी चर्चा हमारे देश के एक विद्वान सी. राजगोपालाचारी के इस कथन के साथ शुरु करते है " Without wisdom in the ...

जिंदगी के पहलू - 3 - सत्य, मजबूत क्षमता का निर्माता
by Kamal Bhansali

जीवन की खासियत, हमारी आंतरिक क्षमता होती है।एक मजबूत व्यक्तित्व के इंसान में ये क्षमता सिर्फ एक तत्व से आती है, और वो है सत्य के प्रति पूर्ण आस्था। ...

जिंदगी के पहलू - 2 - प्रकृति, प्यार और इंसान
by Kamal Bhansali

It seems to me that the natural world is the greatest source of excitement; the greatest source of visual beauty; the greatest source of intellectual interest. It is the ...

प्रेम और वासना - भाग 4
by Kamal Bhansali

दोस्तों, हमने प्रेम के रिश्तों के सन्दर्भ में कुछ पारिवारिक-रिश्तों की चर्चा की, परन्तु कुछ रिश्तें जो आज के जीवन में काफी उभर कर, पारिवारिक और सामाजिक रिश्तों पर ...

Intoxication of Power
by Holy Soul

Day started as usual early in the morning by 07:00 am, for other it was too late to start a day but for me it was too early in ...

રમત - ચેસ ની અને જીંદગી ની
by Jaydeep Buch

 જિંદગી ની રોજિંદી કડવાશથી નિરાશ થયેલ એક યુવાન એક દૂરસ્થ બૌદ્ધ મઠમાં ગયો અને ત્યાંના મઠાઘીપતી ઝેનગુરુ ને મળીને કહ્યું;  'હું જીવનથી ભ્રમિત છું અને આ વેદના અને નિરાશાથી ...

आखिर क्यों ?
by Neelima Sharrma Nivia

ज़िंदगी में कुछ तारीखें ऐसी होती हैं जिन्हें याद करके दिल उदास ओर उद्वेलित हो जाता है । आज यानी 14 जून को टीवी और फिल्मों के मशहूर अभिनेता ...