हमारे उपर जो दुःख आते हे,वे हमारे ही पसंद किये होते हे,वे हमारे कर्मों के फल हे,वे हमारे स्वभाव के अंग हे।