हमारे उपर जो दुःख आते हे,वे हमारे ही पसंद किये होते हे,वे हमारे कर्मों के फल हे,वे हमारे स्वभाव के अंग हे।

    • 969
    • 1.2k
    • (11)
    • 856
    • (16)
    • 920
    • 920
    • (18)
    • 804
    • (17)
    • 838
    • (12)
    • 880
    • (16)
    • 878
    • 888