Chudel ka Intkaat - 3 by Devendra Prasad in Hindi Horror Stories PDF

चुड़ैल का इंतकाम - भाग - 3

by Devendra Prasad Matrubharti Verified in Hindi Horror Stories

उसने आव देखा न ताव मोटरसाइकिल को फेरारी की इंजन की तरह भगाता हुआ हनुमान चालीसा पढ़ने लगा। "जय हनुमान ज्ञान गुण सागर, जय कपीस तिहुँ लोक उजगर।राम दूत अतुलित बलधामा, अंजनी पुत्र पवन सुतनामा।।" अब वह उस अजनबी ...Read More