Indradhanush Satranga - 20 by Mohd Arshad Khan in Hindi Motivational Stories PDF

इंद्रधनुष सतरंगा - 20

by Mohd Arshad Khan in Hindi Motivational Stories

‘‘क्या हुआ पुंतुलु, भाई? इतना परेशान क्यों दिख रहे हैं?’’ आतिश जी ने खिड़की से झाँककर पूछा। ‘‘नहीं-नहीं, ऐसी कोई बात नहीं है।’’ पुंतुलु मुस्कराने का असफल प्रयास करते हुए बोले। ‘‘कुछ बात तो ज़रूर है,’’ आतिश जी अंदर आ गए, ...Read More