Naari, tu utha hathiyar by Namita Gupta in Hindi Poems PDF

नार, तू उठा हथियार

by Namita Gupta in Hindi Poems

॥। नारी अब तू उठा हथियार ॥नारी ! अब तू उठा हथियार ,अब जो करे तुझ पर अत्याचार।यहां नहीं है कोई तेरा,जो तुझे बचा पाएगा,वासना की आग में तप कर,सहज निवाला बनाएगा ।उसकी हवस के आगेअब ना तू होना ...Read More