maryada ki arthi by Ved Prakash Tyagi in Hindi Short Stories PDF

मर्यादा की अर्थी

by Ved Prakash Tyagi Verified icon in Hindi Short Stories

मर्यादा की अर्थी जमीला ने जैसे हमेशा के लिए ही चारपाई पकड़ ली थी, सलीम जो भी कमाकर लाता सब उसकी दवा चिकित्सा पर ही खर्च हो जाता। रिहाना बारह वर्ष की हुई थी, स्कूल जाती व घर पर ...Read More