alfaz-e-aawaz by Deepak Bundela AryMoulik in Hindi Poems PDF

अलफ़ाज़-ए-आवाज़

by Deepak Bundela AryMoulik Matrubharti Verified in Hindi Poems

ना फ़िक्र हैं ना फ़क्र हैं... !तन्हाइयों में तिरा ज़िक्र हैं... !!----------------------------------------वो गुज़रे ज़माने भी क्या याद आते हैं... !अब लोग मुझें मुड़ मुड़ कर देख चले जाते हैं... !!------------------वो शहर ए शाम रंगीन हुई आम ए खाश के ...Read More