Karm - fal by डिम्पल गौड़ in Hindi Short Stories PDF

कर्म-फल

by डिम्पल गौड़ in Hindi Short Stories

कर्म-फल सलाखों के बीच घिरा हुआ बैठा था वह. पूरी तरह से पीली पड़ चुकी आँखें. पिचके हुए गाल,मुख पर छाई गहरी उदासी और बेतरतीब बालों की सफेदी उसे उम्र से पहले ही बूढ़ा बनाने पर आमादा थे.नीला विस्तृत ...Read More