Krishna - this dialogue is mine and yours by Meenakshi Dikshit in Hindi Poems PDF

ये मेरा और तुम्हारा संवाद है कृष्ण

by Meenakshi Dikshit in Hindi Poems

1. हमारे प्रेम के अमरत्व का पल तुम्हारा स्वर सदा की तरह, आत्मीयता के चरम बिंदु सा कोमल था. आगे महाभारत है, अब वापस आना नहीं होगा. तुम मेरी शक्ति हो, तुम्हारे नयन सजल हुए, तो मैं पराजित ...Read More