khilvat by Mukta Priyadarshani in Hindi Short Stories PDF

खिलवत

by Mukta Priyadarshani in Hindi Short Stories

झुर्रियों से भरी देह, पके हुए बाल, थकी हुई आँखें, पसीने से लथपथ जगह-जगह से फ़टी हुई कमीज़, माथे से टपकती मेहनत की बूंदें और कमज़ोर, बेबस व पीड़ा से कराहते पैर जो शक्तिहीन होते हुए भी रिक्शे को ...Read More