mara Kavya by Nikita panchal in Hindi Poems PDF

મારા કાવ્ય

by Nikita panchal in Hindi Poems

1.तड़पतेरे इश्क ने ये हालत कैसी कर दी मेरी ये जालिम।दरबदर भटकते रहेते हम तुम्हें भूलने को रात दिन।हम तो मयखाने में भी जाते है तुम्हे भुलाने के लिए।कमबख्त शराब की हर एक बूंद में भी तुम ही नजर ...Read More