अक्षयपात्र : अनसुलझा रहस्य - 3

by Rajnish in Hindi Short Stories

अक्षयपात्र : अनसुलझा रहस्य(भाग - ३)अवंतिका: थैंक्यू यश! (रुंधे गले से)ऐसे समय पर तुमने आकर मुझे जो सहारा दिया है। उसको मैं बयां नहीं कर सकती।कहकर अवंतिका सिसकते हुए उसके गले लग जाती है।यश उसे सांत्वना देता है।समय बीतता ...Read More